Arvind Kejriwal: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कोरोना के खिलाफ जंग में पूरी तरह से कूद गए हैं। उनकी ओर से गुरुवार को दिल्ली के 21 इलाकों में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए ‘ऑपरेशन शील्ड’ शुरू करने की घोषणा की गई है। साथ ही उनकी ओर से उन लोगों को कठोरतम कार्रवाई की चेतावनी भी जारी की गई है, जो लोग स्वास्थ्यकर्मियों के साथ दुर्व्यवहार करने से बाज नहीं आ रहे हैं। दिल्ली के जिन इलाकों में कोरोना वायरस का संक्रमण अधिक तेजी से फैल रहा है, वहां ऑपरेशन शील्ड शुरू करने की घोषणा करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा है कि इसके तहत कुछ कठोर कदम जरूर उठाए जाएंगे, लेकिन वह इसके लिए जनता का सहयोग चाहते हैं, क्योंकि COVID-19 से लड़ने के लिए यह बहुत ही जरूरी है।

Arvind Kejriwal – विभिन्न चरणों में

केजरीवाल ने इसके बारे में जानकारी ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में दी है। पूरे विस्तार से इसके बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि जब किसी इलाके में कोरोना पॉजीटिव की जानकारी मिलेगी तो भौगोलिक तरीके से उसका सीमांकन करते हुए अंग्रेजी के शब्द शील्ड के पहले अक्षर एस के अनुसार उस इलाके को सील कर दिया जाएगा। दूसरे चरण में इस इलाके में रहने वाले लोगों को उनके घरों में ही क्वॉरेंटाइन कर दिया जाएगा। इसके बाद तीसरे चरण में कोविड-19 के लक्षणों वाले लोगों को अलग कर दिया जाएगा और उनके संपर्क में आए लोगों की पहचान की जाएगी।

जरूरी सामान की आपूर्ति – Arvind Kejriwal

केजरीवाल ने बताया कि ई अक्षर के तहत इन इलाकों में लोगों के घरों तक जरूरी सामान की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। इसके बाद उन इलाकों को संक्रमण मुक्त कराया जाएगा, जहां एक या दो पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि डी अक्षर के तहत घर-घर जाकर यह पता किया जाएगा कि किसी व्यक्ति में खांसी या फिर कोविड-19 के लक्षण तो नहीं हैं।

यह भी पढ़े शब-ए-बारात के मौके पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दी विशेष हिदायत, ट्वीट कर कही ये बात !

दुर्व्यवहार पर चेतावनी

दिल्ली के गौतमनगर इलाके में सफदरजंग अस्पताल की दो महिला डॉक्टरों के साथ हुए कथित दुर्व्यवहार को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह की घटना को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इन मामलों में दोषियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई सरकार करेगी। केजरीवाल ने कहा कि डॉक्टर नर्स एवं अन्य स्वास्थ्यकर्मी कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं। ऐसे में उनके खिलाफ किसी भी तरह के दुर्व्यवहार के मामले में सरकार सख्त कार्रवाई करेगी।

Facebook Comments