Two Wheeler Seating Rules are Going to Change Soon: भारत में आए दिन सड़क दुर्घटनाओं में सैकड़ों लोग अपनी जान गंवाते रहते हैं। जिसको लेकर सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की ओर से वाहनों की सेफ्टी और सड़कों की मरम्मत को लेकर कई निर्देश भी जारी किए जाते हैं, जिससे सड़क दुर्घटनाओं के मामले में कमी लाई जा सके। इसी क्रम में अब सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कुछ नए नियम लागू किए हैं। जिसके जरिए आने वाले दिनों में बाइक पर बैठने के तरीकों में बदलाव हो जाएगा।

ये होगा गाइडलाइन का असर (Two-wheeler Seating New Guidelines)

Two Wheeler Seating Rules are Going to Change Soon
Image Source: Aajtak.intoday.in

दरअसल मंत्रालय की नई गाइडलाइन बाइक की सवारी करने वाले लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर जारी की गई है। गाइडलाइन के मुताबिक अब बाइक में भी ड्राइवर की सीट के पीछे दोनों ओर हैंड होल्ड लगें होंगे। जिससे बाइक के पीछे बैठने वाले शख्स को इसका काफी सपोर्ट मिलेगा और हल्के-फुल्के सड़क एक्सीडेंट में बड़ी क्षति को रोका जा सकेगा।

आपको बता दें कि अभी तक बाइक में ये सुविधा नहीं मिलती थी। लेकिन अब बाइक के पीछे बैठने वाले के लिए दोनों तरफ पायदान भी अनिवार्य कर दिया गया है। इसके अलावा बाइख के पिछले पहिए के बाएं हिस्से का कम से कम आधा हिस्सा सुरक्षित तरीके से कवर होगा, जिससे बाइक पर पीछे बैठने वाले शख्स के कपड़े पहियों में उलझने से बच सकें।

कंटेनर लगाने का भी निर्देश

मंत्रालय की नई गाइडलाइन में बाइक में हल्का कंटेनर लगाना भी अनिवार्य कर दिया है। जिसकी लंबाई 550 मिमी, चौड़ाई 510 मिली और ऊंचाई 500 मिमी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसके साथ ही मंत्रालय ने यह भी कहा है कि अगर बाइक में लगाया जाने वाला यह कंटेनर पीछे बैठने वाली सवारी के स्थान पर लगाया गया है, तो ऐसे में बाइक पर केवल ड्राइवर को ही बैठने की अनुमति होगी। गौरतलब हो कि सरकार की ओर से लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर अक्सर ही इन सुरक्षा नियमों में बदलाव किया जाता है। जिससे सड़क पर होने वाली दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सके।

यही नहीं इसके अलावा सरकार ने टायर को लेकर भी नई गाइडलाइन जारी की है। जिसके मुताबिक अधिकतम 3.5 टन वजन तक के वाहनों के लिए टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम का सुझाव दिया गया है। इस सिस्टम में सेंसर के जरिए ड्राइवर को ये जानकारी मिल जाती है कि गाड़ी के टायर में हवा की क्या स्थिति है। इसके अलावा कई अन्य नियम भी सुझाए गए हैं।

Facebook Comments