Lockdown: देश में कोरोना के बढ़ रहे प्रभाव के कारण 3 मई तक लॉकडाउन घोषित है। ऐसे में देश की सभी आर्थिक गतिविधियों पर फिल्हाल रोक लगी हुई है, लेकिन 20 अप्रैल के बाद से कोरोना फ्री इलाकों में कुछ छूट दी गई है। इसी बीच शुक्रवार देर रात को केंंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक नई एडवाइजरी जारी की, इस नए एडवाइजरी के अनुसार हॉटस्पाट और कटेंनमेंट जोन के अलावा अन्य जगहों पर दुकानें खोली जा सकेंगी। हालांकि दुकान खोलने के कुछ शर्त होंगे, जो व्यापारियों को अनिवार्य रूप मानना होगा।

देश में फिलहाल सभी तरह की आर्थिक गतिविधियां, शैक्षणिक संस्थाओं, मंदिरों, मस्जिदों, गुरूद्वारों तथा अन्य सभी प्रतिष्ठान बंद हैं। सिर्फ उन्हीं सेवाओं को छूट है, जो जरूरी हैं। लेकिन अब केंद्र के नए एडवाइजरी के तहत अन्य दुकानें भी खोली जा सकेंगी लेकिन मॉल्स और शॉपिंग कांपलेक्स अभी भी बंद रहेंगे। सिर्फ वही दुकानें खुलेंगी जो रिहाइशी इलाकों के नजदीक हों और शॉपिंग कांपलेक्स के अंदर न हो। इस नए आदेश के बाद लोगों के मन में ये सवाल भी उठ रहा है कि क्या अब शराब की दुकानें और बार भी खोली जाएंगी?

 local shops open from 25th april
socialnews

क्या खुल जाएंगी शराब की दुकानें?

अगर आप सोच रहे हैं कि शराब की दुकानें और बार भी खोली जाएंगी, तो इसका सीधा उत्तर नहीं है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जो नया आदेश जारी किया है, उसमें शराब की दुकानों और बार को खोलने की इजाजत नहीं दी गई है। बता दें कि इससे पहले, इस मामले में पंजाब सरकार ने केंद्र से दरख्वास्त की थी कि शराब की दुकानें खोली जाएं, लेकिन केंद्र ने इसकी अनुमति नहीं दी है।

नए आदेश में कहा गया है कि शॉप्स एंड इस्टैब्लिश्मेंट एक्ट के अंतर्गत जो दुकानें आएंगी, सिर्फ उन्हें ही खोलने की अनुमति दी जाएगी। गृह मंत्रालय ने बताया है कि शराब की बिक्री के लिए अलग नियम हैं। इसलिए अभी शराब की दुकानों पर किसी भी तरह की छूट नहीं दी जाएगी

पूर्वोत्तर के दो राज्यों असम और मेघालय ने लॉकडाउन के पहले चरण (25 मार्च से 14 अप्रैल) में शराब की बिक्री की अनुमति दी थी। बाद में केंद्र ने 15 अप्रैल को एक नई एडवाइजरी जारी की, जिसके बाद वहां भी शराब की बिक्री पर रोक लगाई गई। गृह मंत्रालय ने बताया है कि 15 अप्रैल को जारी आदेश के अनुसार लॉकडाउन के समय पूरे देश में कहीं भी शराब, गुटखा, तंबाकू, बिड़ी, सिगरेट आदि की बिक्री पर रोक लगाई गई है।

शराब की बिक्री न होने से राजस्व घाटा (Will Liquor Vendor and Bars reopens From 25th April)

कई रिपोर्ट्स इस बात का जिक्र कर रहे हैं कि कोरोना वैश्विक महामारी जैसे बड़े संकट को रोकने के लिए इस वक्त देश में लॉकडाउन घोषित है और देश के अधिकतर राज्यों ने इस दौरान शराब की बिक्री बंद कर दी है। वहीं दूसरी तरफ राज्यों को इस समय कोरोना से निपटने के लिए मेडिकल सेक्टर में अधिक खर्च करना पड़ रहा है। ऐसे में शराब की बिक्री बंद होने से लगभग सभी राज्यों को 25 प्रतिशत राजस्व घाटा हो रहा है।

Facebook Comments