Causes of Relationship Failure: प्यार, यह शब्द जितना बोलने में छोटा है उतना ही असल में नाज़ुक भी। प्यार करना तो बेहद आसान होता है लेकिन उसे निभाना सबसे कठिन। हर रिश्ते की नींव विश्वास, ईमानदारी और समझदारी पर टिकी होती है। इन तीनों चीज़ों में से एक भी अपनी दिशा भूल जाए तो प्यार का रिश्ता वहीं कमज़ोर पड़ जाता है। आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में हम एक दूसरे के लिए वक्त नहीं निकाल पाते। ऐसे में अक्सर रिश्ते टूटने की कगार पर आ जाते हैं। वहीं अक्सर हमारा पार्टनर अगर किसी से घुलना मिलना शुरू कर देता है तो शक के कारण भी रिश्तों में दरार आ जाती है। ऐसे ही 5 कारण हम आपको बताने जा रहे हैं जिसकी वजह से आपके रिश्ते में दरार आने लगती है।

अन्य रिश्तों के आगे साथी को भूल जाना

कई बार ऐसा होता है कि जब आप अपने साथी के साथ किसी रिश्तेदार या दोस्तों के साथ घूमने जाते हैं तो आप जाने-अंजाने में अपने साथी को इग्नोर कर देते हैं। आपका पार्टनर खुद को सब रिश्तों के ऊपर प्राथमिक समझता है जो बिल्कुल सही है। अक्सर इस आदत की वजह से आपका पार्टनर इग्नोर फील करता है और रिश्तों में दरार आने लगती हैं।

अधिक व्यस्त रहना

reason for problem in relationship
Best Life online

आजकल की व्यस्त जीवनशैली ही ऐसी है कि हर कोई अपनी ज़िंदगी में बिज़ी है। हर कोई पैसा कमाना चाहता है जो कि अच्छी बात है। लेकिन कभी-कभी हम अपने आप में इतने मशरूफ हो जाते हैं कि अपने रिश्तों को अहमियत देना ही छोड़ देते हैं। काम को प्राथमिकता देने लगते हैं और भूल जाते हैं कि हमारी ज़िंदगी में काम के साथ साथ और भी रिश्ते जुड़े हैं। यही कारण रिश्तों में दूरियां आने लगती हैं और आपका रिश्ता टूटने की कगार पर जा पहुंचता है।

ऑनलाइन रहकर इग्नोर करना

आजकल की डिजिटल दुनिया में लोग एक दूसरे को स्टॉक करना बखूबी जानते हैं। कई बार आप ऑनलाइन होते हैं और पार्टनर का मैसेज आने पर उसे नज़र अंदाज़ कर देते हैं, लेकिन आप ऑनलाइन रहकर किसी और से बात कर रहे होते हैं। आपका साफ तौर पर इगनोर करना आपके पार्टनर को अच्छे से समझ आने लगता है और आपका पार्टनर इग्नोर और चीटेड फील करता है। बस यही वजह शक का कराण बनती है और रिश्तों में दरार आ जाती है।

अहमियत रखती है मायने

Couple Arguing
Best Life Online

रिश्तों में बहुत ज़रूरी है अंडरस्टेंडिंग। लेकिन कुछ लोगों की आदत अपनी मन मानी करना होता है। उन्हें अपने पार्टनर की किसी भी बात का कोई फर्क नहीं पड़ता और वे उनके किसी भी फैसले में उनकी हां या ना की कदर नहीं करते। यही वजह है कि हम अपने पार्टनर को अहमियत नहीं देते और वो हमें छोड़कर चला जाता है।

समझदार पार्टनर है जरूरी

अगर आप अपने पार्टनर को बस सुनती है और उन्हें समझती नहीं तो आप अपनी अहमियत के साथ-साथ उन्हें भी खो रही हैं। एक मजबूत रिश्ते की नींव का एक पहलू समझदारी भी है। हो सकता है कि आप ज्यादा समझदार न हो लेकिन आपको पता होना चाहिए कि आपका पार्टनर कब उदास है और कब परेशान। उनकी हर बात को बिना कहे समझना आपके रिश्ते को मजबूत करता है। लेकिन कई बार अपने पार्टनर से समझदारी की उम्मीद टूटने पर रिश्तों में दरार आ जाती है।

Facebook Comments