Kamar Dard ka Karan: आजकल के तनावपूर्ण जीवन शैली मे लोगो को कई प्रकार की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याए होती रहती है। कमर दर्द उन्ही समस्याओ मे से एक प्रमुख समस्या है। जो आजकल के रहन सहन तथा बढते काम के दबाव के कारण बहुत ही आम बात है।  पहले यह समस्या केवल बुजुर्गो को होती थी लेकिन अब तो युवा वर्ग मे भी इसका शिकार बनता जा रहा है।
यदि कमर दर्द किसी व्यायाम या बाहरी श्रम की वजह से हो। तब तो ठीक है किन्तु यदि बिना किसी बाहरी श्रम के कमर दर्द हो रहा है ,तो तुरंत उसका कारण जानने तथा उपचार करने की आवश्यकता हैवरना यह दर्द घातक रूप भी ले सकता है. अतः दर्द को कभी भी सामान्य समझ कर नजर अंदाज न करे

ककमर दर्द का कारन और उपाय (Kamar Dard ka Karan aur Upay)

  • कई बार सोने के गलत तरीको की वजह से कमर मे दर्द होता है। हम अपने सोने की स्थिति मे सुधार करके इससे छुटकारा पा सकते है।
  • हड्डियो का कमजोर होना कमर दर्द का एक प्रमुख कारण है। हड्डिया मजबुत रहे इसके लिए कुछ मात्रा मे व्यायाम सही खानपान तथा कैल्शियम का पर्याप्त मात्रा मे सेवन अत्यन्त आवश्यक है।
  • सोने वाले बिस्तर का अत्यधिक मुलायम या स्पंजी होना भी कमर दर्द का कारण है। बिस्तर को ऐसा होना चाहिए की वो कमर को सपोर्ट कर सके। अत्यन्त मुलायम बिस्तर कमर को आधार प्रदान नही कर पाता है।
  • काम के लिए लम्बे समय तक एक ही स्थिति मे बैठने से भी कमर दर्द की समस्या होती ह।तथा कई बार यह समस्या स्थायी रूप ले लेती है।
  • अत्यधिक मोटापा भी कई बार ऐसी शारीरिक समस्याओ का कारण बनता है। अत्यधिक वसा के जमाव से मासपेशियो मे दर्द होना शुरू हो जाता है। जो कमर दर्द का प्रमुख कारण है।
  • कई बार तनाव के तंत्रिका उतक मे दबाव पडता है जो दबाव रीढ की हड्डी के आसपास की कोशिकाओ को प्रभावित करता है जिससे कमर दर्द होता है।

कई बार कमर दर्द कई गंभीर बीमारियो के कारण भी होने लगता है।  जिनमे पीलिया. गर्भाशय जैसी बीमारिया भी शामिल है।
कमर दर्द होने पर एक बार चिकित्सकीय सलाह अवश्य ले क्योकि सावधानी ही बचाव है।चिकित्सकीय परामर्श से कमर दर्द की समस्या के कारण को सही समय मे पकड कर दूर किया जा सकता है।

Facebook Comments