Diwali Mai ye Nahi Karna Chahiye: हमारा देश वीविधताओं से भरा हुआ है। यहां पर अक्सर ही समय-समय के अंतराल पर कोई ना कोई त्योहार आदि मनाया जाता रहता है। हालांकि, इस सब के बीच हमारे देश में कुछ त्योहार विशेष महत्त्व रखते हैं जैसे होली, दशहरा और दिवाली। बता दें कि दिवाली खुशियों का एक ऐसा है त्योहार है जिसे पूरा भारत वर्ष हर्षोउल्लास के साथ मनाता है। कार्तिक अमावस्या की काली रात को मनाया जाने वाला यह त्योहार हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी के यहां समान उत्साह के साथ मनाया जाता है। दिवाली का त्योहार कुल 5 दिन तक मनाया जाता है जिसकी शुरुआत धनतेरस से होती है और समापन भाई दूज के साथ होता है। धनतेरस वाले दिन लोग सोने-चांदी के सिक्के और बर्तन आदि खरीदते हैं।

रौशनी और खुशियों के इस त्योहार को सफाई का त्योहार भी कहा जाता है और ऐसा इसलिए क्योंकि मान्यता है कि दिवाली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है और चूंकि लक्ष्मी जी धन की देवी हैं इसलिए घर में या अपने दुकान या व्यापार क्षेत्र में साफ़ सफाई करना आवश्यक होता है। इसलिए हर कोई त्योहार से करीब महीने भर पहले ही घर या व्यापार स्थल की साफ़ सफाई में जुट जाता है। बहुत से लोग इसी वक़्त अपने घर में पेंट भी करा लेते हैं। इस दिन शाम के वक़्त सभी लोग अपने-अपने घरों में पूरे परिवार के साथ लक्ष्मी पूजा करते हैं और साथ ही मिठाई भी बांटते हैं।

इसके साथ ही लोग देवी लक्ष्मी से सदा संपन्न रहने का आशीर्वाद भी मांगते हैं ताकि उनके घर और परिवार में माता लक्ष्मी की कृपा बनी रहे और वो हमेशा तरक्की करते रहें। हालांकि, इस दौरान बहुत से लोग तमाम तरह के उपाय भी करते हैं जिससे वह मां लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकें और उनकी कृपा प्राप्त कर सकें। मगर आपको बता दें कि ऐसे में बहुत सी बातों का विशेष ध्यान भी रखना पड़ता है अन्यथा आपके साथ कुछ अशुभ भी हो सकता है।

दिवाली में क्या नहीं करना चाहिए

जैसा कि हम सभी जानते हैं दिवाली हिंदू धर्म के मुख्य त्योहारों में से एक है। ऐसे में इस दिन हमें कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए अन्यथा मां लक्ष्मी हमसे रूठ जाती हैं और पूरे वर्ष हम तरक्की नहीं कर पाते या उसमें बहुत सारी बाधाएं आती हैं। तो चलिए जानते हैं दिवाली के दिन हमें क्या-क्या नहीं करना चाहिए।

सुबह देर तक न सोएं

diwali mai ye nahi karna chahiye
lifestyletips

वैसे तो शास्त्रों में बताया गया है कि हमें हर रोज सुबह जल्दी उठ जाना चाहिए। मगर आजकल की इस भागदौड़ वाली जिंदगी में काफी लोग ऐसे हैं जो रात में देर से सोते हैं, नतीजतन सुबह उठने में देर हो जाती है। शास्त्रों के अनुसार, दीपावली पर ब्रह्म मुहूर्त में ही उठ जाना चाहिए। जो लोग इस दिन सूर्योदय के बाद तक सोते रहते हैं, उन्हें महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त नहीं हो पाती है।

बड़ों का अपमान ना करें

दिवाली हो या फिर कोई भी अन्य त्योहार आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इन शुभ दिनों में या फिर बाकी के सामान्य दिनों में भी अपने माता-पिता या घर के किसी भी वरिष्ठ सदस्य का अपमान नहीं करना चाहिए। बड़े-बुजुर्गों को अपशब्द ना बोलें।

सायंकाल में ना सोएं

दिवाली के दिन कभी भी शाम के समय सोना नहीं चाहिए। माना जाता है कि इससे घर में दरिद्रता आती है क्योंकि शाम के समय देवी लक्ष्मी घर आती हैं और घर के किसी भी सदस्य को बिस्तर पर सोने की स्थिति में देखने पर वापस लौट जाती हैं।

पूजा में बासी फूलों का ना हो इस्तेमाल

diwali mai ye nahi karna chahiye
aajtak

दीपावली पर लक्ष्मी पूजन में हमेशा ताजे फूलों का प्रयोग करना चाहिये। मां लक्ष्मी को बासी फूल या घर के फ्रिज में रखें एक दिन पूर्व के फूल न चढ़ाएं। इससे मां नाराज हो सकती हैं।

क्रोध न करें

दीपावली या फिर अन्य कोई भी त्योहार ख़ुशी के मौके होते हैं और ऐसे मौकों पर क्रोध नहीं करना चाहिए और ना ही किसी बात पर जोर से चिल्लाना चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना जाता है। जो लोग इन दिनों क्रोध करते हैं या जोर से चिल्लाते हैं, उन्हें लक्ष्मी की कृपा प्राप्त नहीं होती। घर में शांत, सुखद एवं पवित्र वातावरण बनाए रखना चाहिए। लक्ष्मी ऐसे घरों में निवास करती हैं जहां शांति रहती है।

गंदगी से दूर रहें

दिवाली तो साफ-सफाई और स्वच्छता का ही त्योहार होता है। ऐसे में आपको चाहिए कि आप किसी भी तरह की गंदगी ना फैलाएं और ना ही उसके आस-पास रहें।

नशे से रखें दूरी

जो लोग दीपावली के दिन नशा करते हैं, वे हमेशा दरिद्र रहते हैं। नशे की हालत में घर की शांति भंग हो सकती है और सभी सदस्यों को मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए जहां तक हो सके इस पवित्र दिन नशा करने से बचें अन्यथा वाद-विवाद हो सकते हैं और लक्ष्मी पूजा भी अधूरी मानी जाती है।

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें।

Facebook Comments