Ganesh Chaturthi 2020: गणेश चतुर्थी 2020 में उस तरह से नहीं मनाया जा सकेगा जैसे हर साल मनाया जाता रहा है। बेहद धूमधाम से मनाए जाने वाले इस पर्व पर इस साल कोरोना संक्रमण की वजह से कुछ पाबंदियां हैं। दस दिनों के त्यौहार की शुरुआत गणपति स्थापना के साथ होती है। अन्य वर्ष की तुलना में इस साल गणपति स्थापना के लिए आपको महज ढाई घंटे का ही वक़्त मिलेगा। आज इस आर्टिकल में हम आपको गणेश चतुर्थी 2020(Ganesh Chaturthi 2020) से जुड़ी सभी आवश्यक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं।

जानें गणेश चतुर्थी 2020 की तारीख़ और पूजा मुहूर्त

Ganesh Chaturthi 2020 Special
Image Source – [email protected]

आपको बता दें कि, गणेश चतुर्थी साल 2020(Ganesh Chaturthi 2020) में 22 अगस्त शनिवार के दिन से प्रारंभ होने जा रहा है। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार गणेश जी का जन्म भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को हुआ था। इसी वजह से इस दिन से लेकर अगले दस दिनों तक गणेश उत्सव मनाया जाता है। गौरतलब है कि, इस साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की इस तिथि का आरंभ 21 अगस्त को ही रात 11 बजकर 2 मिनट पर होगा। ये तिथि 22 अगस्त को शाम सात बजकर 54 मिनट पर खत्म होगी। हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार गणेश जी का जन्म दोपहर के वक़्त हुआ था इसलिए उनकी स्थापना एवं पूजा भी दोपहर के समय ही होती है। लेकिन इस साल 22 अगस्त के दिन दोपहर में गणेश पूजन और मूर्ति स्थापना के लिए केवल ढ़ाई घंटे का ही समय मिलेगा। इस दिन आप सुबह 11 बजकर छह मिनट से लेकर 01 बजकर 42 मिनट तक बाप्पा की पूजा कर सकते हैं। लिहाजा यदि आप भी 2020 में गणेश चतुर्थी(Ganesh Chaturthi 2020) मनाने जा रहे हैं तो इसी दौरान आपको बाप्पा की स्थापना अपने घर में करनी होगी।

गणेश चतुर्थी को लेकर भक्तों में ख़ास उत्साह रहता है

Ganesh Chaturthi 2020
Image Source – Wikimedia Commons

यूँ तो गणेश चतुर्थी(Ganesh Chaturthi 2020) का पर्व मुख्य रूप से महाराष्ट्र में काफी धूम धाम के साथ मनाया जाता है। लेकिन अब इस त्यौहार को पूरे देश में मनाया जाने लगा है। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार गणेश जी को प्रथम पूज्य देवता का स्थान दिया जाता है। किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करने से पहले गणेश पूजा जरूर की जाती है। हिन्दू धर्म में गणेश जी को विघ्नहर्ता का दर्जा दिया गया है। लिहाजा हर साल गणेश चतुर्थी के अवसर को लोग बेहद धूमधाम से मनाते हैं। दस दिनों तक इस त्यौहार के दौरान विभिन्न जगहों पर पंडाल लगाए जाते हैं और गणेश जी की भव्य मूर्ति की स्थापना की जाती है। हालाँकि साल 2020 का गणेश चतुर्थी(Ganesh Chaturthi 2020) थोड़ा अलग होने वाला है। लोग अपने जीवन में सुख समृद्धि और जीवन में प्रगति के लिए गणेश चतुर्थी पर बाप्पा की मूर्ति को अपने घरों में स्थापित कर उनकी दस दिनों तक पूजा अर्चना करते हैं। गणेश चतुर्थी के ग्यारहवें दिन गणपति की मूर्ति का विसर्जन किया जाता है।

यह भी पढ़े

गणेश चतुर्थी 2020(Ganesh Chaturthi 2020) में छोटे स्तर पर मनाया जाएगा, इस साल बाप्पा की भव्य मूर्तियां देखने को नहीं मिलेंगी और ना ही पंडाल लगाए जाएंगे।

Facebook Comments