Flamingo Bird Crop Milk: वन्यजीवन बहुत ही खूबसूरत होता है। यही वजह है कि इसका आनंद उठाने के लिए बहुत से लोग ऐसी प्राकृतिक जगहों पर पहुंचना चाहते हैं, जहां वे वन्यजीवन की खूबसूरती का आनंद ले सकें। हालांकि, बहुत सी ऐसी दुर्लभ चीजें होती हैं, जो इस यात्रा के दौरान उन्हें देखने को नहीं मिल पाती हैं। ऐसे में सोशल मीडिया में कई बार कुछ ऐसे दुर्लभ दृश्य कैमरे में कैद होने के बाद देखने को मिल जाते हैं, जो देखते-ही-देखते वायरल हो जाते हैं।

इन्होंने किया पोस्ट

How Do Flamingos Feed Their Young Ones
Twitter

भारतीय वन सेवा यानी कि आईएफएस के अधिकारी प्रवीण कासवान हमेशा इसी तरह के वीडियो सोशल मीडिया के जरिए शेयर करते रहते हैं। वन्यजीवों की तस्वीरों के साथ उनसे जुड़े वीडियो भी अक्सर उन्हें पोस्ट करते हुए देखा जाता है। बस एक दिन पहले प्रवीण कासवान की ओर से अपने ट्विटर अकाउंट से एक और बड़ा ही रोचक वीडियो शेयर किया गया है।

क्या है वीडियो में

इस वीडियो में दो राजहंसों को आपस में लड़ते हुए देखा जा रहा है। जी हां, पहली नजर में आप इसे देखेंगे तो ऐसा ही प्रतीत होता है जैसे कि दोनों आपस में लड़ रहे हैं। इस वीडियो में दूसरे फ्लेमिंगो (Flamingo Bird Crop Milk) के सिर पर पहले फ्लेमिंगो ने अपना चोंच रखा हुआ है। वहां से खून बहता हुआ नजर आ रहा है। प्रवीण कासवान ने इस वीडियो को शेयर करने के साथ ही इसे प्रकृति की सबसे आश्चर्यजनक व अनमोल चीज भी बताया है।

यह भी पढ़े

इस गांव में बछड़े की मौत होने पर कराई जाती है नाबालिग की शादी

असलियत क्या है?

How Do Flamingos Feed Their Young Ones
Twitter

इस वीडियो को शेयर करने के साथ ही कासवान में वीडियो के बारे में जानकारी भी दी है। उन्होंने लिखा है कि आप यह मत समझिए कि दोनों आपस में लड़ाई कर रहे हैं। ऐसा नहीं है। यह इनके बीच की लड़ाई नहीं है, बल्कि यहां दो राजहंस एक चूजे को यहां खाना खिलाने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही जो लाल रंग का द्रव नजर आ रहा है, वह खून नहीं, बल्कि क्रॉप मिल्क है। उनके मुताबिक अपने पाचन तंत्र में इन राजहंस माता-पिता द्वारा क्रॉप मिल्क का उत्पादन किया जाता है। अपने बच्चों को वे इसे पिलाने के लिए दोबारा तैयार करते हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी

How Do Flamingos Feed Their Young Ones
Twitter

इसके बारे में और जानकारी देते हुए प्रवीण कासवान ने लिखा है कि प्रोटीन की इस क्रॉप मिल्क में प्रचुरता होती है। यह वास्तव में एलिमेंटरी कैनाल का भाग होता है। पचने से पहले भोजन इसी जगह पर जमा होता है। प्रवीण के मुताबिक जब तक उनके बच्चे ठोस खाना खाने के लिए तैयार नहीं होते हैं, तब तक वे अपने बच्चों को इसी तरह से खाना खिलाते हैं।

वायरल हुआ वीडियो

यह वीडियो 23 सेकंड का ही है, लेकिन सोशल मीडिया पर इसे खूब पसंद किया जा रहा है। प्रवीण कासवान द्वारा इसे पोस्ट किए जाने के कुछ ही घंटों के अंदर इस वीडियो को 51 हजार से भी अधिक लोगों ने देख लिया था। कई यूजर ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे जानकारी से परिपूर्ण बताया है। कुछ ने लिखा है कि प्रकृति हमें हैरान करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ती है। कई यूजर ने कभी ऐसा ना देखे होने या सुनने की बात लिखी है, तो कुछ ने लिखा है कि यह हमेशा याद रहने वाला है।

Facebook Comments