आजतक की एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी साउथ डकोटा में हुई मोटरबाइक रैली(Motorcycle Rally) की वजह से ढाई लाख से भी ज्यादा लोगों के कोरोना संक्रमित होने का मामला सामने आया है। साइन डियोगा यूनिवर्सिटी ने अपने स्टडी में इस बात को सामने रखा है। गौरतलब है कि, इस यूनिवर्सिटी ने अपने रिपोर्ट में जो कोरोना संक्रमितों की जो संख्या बताई है वो अमेरिका के स्थानीय विभाग के आकड़ों से कई ज्यादा है। इसके बाद साउथ डकोटा की गवर्नर क्रिस्टी नोएम ने इस रिपोर्ट को महज एक कल्पना क़रार दिया है और उन लोगों की काफी निंदा की है जिन्होनें अपनी रिपोर्टिंग में इस बात को सामने रखा है। दूसरी तरफ इस यूनिवर्सिटी ने जो रिपोर्ट भेजी है उसके अनुसार उनका लक्ष्य इस मोटरबाइक में कितने लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं यह पता लगाना था। जानकारी है कि, इस यूनिवर्सिटी ने इससे पहले भी अमेरिका में हुए विभिन्न प्रदर्शन और रैलियों को लेकर काफी स्टडी किया था।

Motorcycle Rally In US
Image Source – Thenewstalkers.com

उन्होनें बीते जून में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की राजनीतिक रैलियों का भी अध्ययन किया था। उन्होनें इस अपनी स्टडी में मोबाइल फोन डेटा का इस्तेमाल किया था और रैली के पहले और बाद के कोरोना मामलों की जांच की थी। बता दें कि, यह रैली बीते माह 7 से 16 अगस्त को आयोजित की गई थी और इस दौरान करीबन चार लाख लोगों ने हिस्सा लिया था। इस प्रमुख स्टडी में शामिल रिसर्च करता एंड्रू फ़्रीडसन का कहना है कि, इस रैली से जहाँ एक तरफ गवर्मेंट को आर्थिक तौर पर लाभ हुआ लेकिन दूसरी तरफ कोरोना संक्रमितों पर जो खर्च हो रहे हैं उसका एक बड़ा हिस्सा भी अमेरिका के केंद्र सरकार की तरफ से मुहैया करवाई जा रही है। लेकिन इस तथ्य से गवर्नर क्रिस्टी बिल्कुल भी ताल्लुक नहीं रखती हैं, उन्होनें साफतौर पर कहा है कि, “इस रिसर्च के नाम पर उनलोगों पर हमला किया जा रहा है जिन्होनें अपनी मर्जी से इस रैली में भाग लिया था।”

स्थानीय रिपोर्ट और स्टडी के आकड़ों में है बड़ा अंतर

Motorcycle Rally In US  Raises Covid-19 Cases
Image Source – Nbcnews.com

अमेरिका में हुए मोटरबाइक रैली(Motorcycle Rally) के बाद रिसर्च में सामने आए कोरोना संक्रमितों के आंकड़ें स्थानीय रिपोर्ट से काफी अलग हैं। जहाँ स्थानीय विभाग ने बीते मंगलवार को जारी किए रैली के रिपोर्ट में केवल 124 लोगों के कोविड पॉजिटिव होने की बात की है वहीं एसोसिएट प्रेस ने अपने रिपोर्ट में कहा है कि, अबतक रैली में शामिल करीबन 290 कोरोना के केस सामने आए हैं। यूनिवर्सिटी की स्टडी में इस बात की जानकारी दी गई है कि, जिस भी इलाके से मोटरबाइक रैली में लोग शामिल हुए थे बाद में उन जगहों से कोरोना के मामले में बढ़ोत्तरी देखी गई।

यह भी पढ़े

एंड्रू फ़्रीडसन ने काफी जोर देते हुए कहा है कि, रैली में शामिल लोगों ने कोरोना संक्रमित होने के उनके आंकड़ें सबसे ज्यादा सही है।

Facebook Comments