विटामिन ई हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही जरूरी है। यह हड्डियों, ह्रदय और मांशपेशियों को स्वस्थ बनाये रखने लिए जरूरी होता है। विटामिन ई लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में सहायता करता है।

विटामिन ई में एंटीओक्सिडेंट होता है। जो हमे हार्ट रोग, कैंसर से बचाता है। यह हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल का सही स्तर बनाये रखता है। विटामिन ई केवल शाकाहारी आहार पदार्थों में पाया जाता है। आज हम आपको इस लेख में विटामिन ई की कमी से होने वाले रोगो के बारे में बताएगे।

विटामिन ई की कमी (vitamin e ki kami) के लक्षण:

  • मांशपेशियों में दर्द और कमजोरी
  • कमजोर हड्डियाँ
  • चलने और शरीर संचालन में समस्या होना
  • स्किन रोग
  • बार बार डायरिया होना
  • थकावट सी लगना
  • चिकना मल होना
  • घाव जल्दी न भरना
  • मसूढ़ों से खून आना
  • गर्मियों में नाक से खून आना
  • बाल झड़ना आदि

अगर कोई बच्चा समय से पहले पैदा हो जाता है। तो उसमे विटामिन ई की कमी से खून की कमी पायी जाती है।
बहुत से लोगो को रात में कम दिखाई देता है। इसका कारण भी विटामिन ई ही होती है। क्युकी विटामिन ई की कमी से विटामिन ए भी कम होने लग जाता है। विटामिन ए हमारी आँखो की रौशनी के लिए बहुत जरूरी होता है।

ये भी पढ़े: विटामिन डी की कमी से होने वाले रोग

विटामिन ई की कमी (vitamin e ki kami) से होने वाले रोग और उनसे बचने के उपाय:

विटामिन ई की कमी से हमारे शरीर में बहुत सी बीमारी पनपने लगती है। जैसे हेमोलिटिक एनीमिया
न्यूरोलॉजिकल बीमारियाँ, मसल वीकनेस, आँखों के रेटिना सम्बन्धित रोग, रेटिनोपैथी, पार्किन्सन डिजीज, बच्चों का सिस्टिक फ़ायब्रोसिस आदि।

rich calcium food
Aaj Tak

विटामिन ई की कमी से होने वाले रोगो से बचने के लिए हमे पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, लाल या हरे शिमला मिर्च, एस्पेरेगस या शतावर आदि को अपने दैनिक आहार में शामिल करना चाहिए।
बादाम, अखरोट, हेज़लनट, काजू, मूंगफली, पीनट बटर आदि भी विटामिन ई से भरपूर आहार है। जो विटामिन ई की कमी को दूर करते है।
आजकल बाजार में विटामिन ई की कैप्सूल या आयल आसानी से मिल जाते है। लेकिन विटामिन ई के कैप्सूल डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं लेने चाहिए।
14 साल की अधिक उम्र वालो और प्रेगनेंट महिला को प्रतिदिन 15mg विटामिन ई की आवश्यकता होती है।

विटामिन ई के फायदे:

विटामिन ई हमारे बालों, चेहरे और स्किन के लिए बहुत ही फायदेमंद है। यह बढ़ती उम्र के असर को भी कम करती है।
विटामिन ई चेहरे के दाग, धब्बों, प्रेगनेंसी के स्ट्रेच मार्क्स, फटी एड़ियाँ को ठीक करता है।
यह हमारे बालो की लम्बाई बढ़ाता है। विटामिन ई बालों का सफ़ेद होना और दोमुंहे बालों की समस्या दूर करता है।  अगर आपको बाल झड़ने की समस्या है। विटामिन ई के कैप्सूल का सेवन करना चाहिए और आयल को सर की त्वचा पर लगाना चाहिए।

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो अपने दोस्तों और परिवार वालो के साथ शेयर करो, ताकि वो भी ये जानकारी ले सके।

ये भी पढ़े: विटामिन सी की कमी से होने वाले रोग

प्रशांत यादव

Facebook Comments